HomeGeneralआपके बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता तो क्या करना चाहिए?

आपके बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता तो क्या करना चाहिए?

बहुत से विद्यार्थियों का पढाई में मन नहीं लगता। बहुत सी कोशिश करने बाद भी उन्हें पढाई करने में बहुत परेशानी होती है। बार-बार ध्यान भटकने लगता हैं। आम तौर पर बच्चो का मन खेल में अधिक होता हैं और आज कल तो पढाई के नाम पर फ़ोन ले कर बच्चे फ़ोन ही चलाने लग जाते हैं। बार-बार डाटने के बाद भी उनका ध्यान पढाई की ओर केंद्रित ही नहीं हो पाता। तो ऐसे में क्या करना चाहिए? पढ़ाई में मन नहीं लगता तो क्या करना चाहिए? इसी पर आज हम एक लेख लेकर आये हैं जिससे आपको कुछ टिप्स मिलेंगे।

पढ़ाई में मन नहीं लगने के कारण

पढाई में मन ना लगने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन जब तक आप कारण का पता नहीं लगा पाते तब तक आप पढाई में सुधार नहीं कर सकते। तो आइये जानते कुछ सामान्य कारण जिनकी वजह से पढाई में मन नहीं लगता:

  • जब आप किसी के दबाव में आ कर पढ़ने की कोशिश करते है तब पढाई में मन नहीं लगता।
  • बहुत अधिक लोग और शोर होने पर भी ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई होती हैं।
  • जब पढाई के लिए सही समय का चुनाव नहीं किया जाता तो भी पढाई में मन नहीं लगता।
  • कभी कभी जो पढाई जाता है वो समझ नहीं आता, जिससे पढाई में मन ही नहीं लगता।
  • जब आप बहुत अधिक थके हुए हो तो आपका मन किसी एक जगह लगना बहुत ही कठिन होता हैं।
  • जब आपको किसी अन्य विषय में अधिक रूची होती है तो दूसरे विषय पढ़ने का मन नहीं लगता।
  • कई बार आपको पता ही नहीं होता की आपको करना क्या हैं? ऐसी परिस्थिति में आपको कोई सही से निर्देश देने वाला भी नहीं होता हैं।
  • जब आपकी मानसिक या शारीरिक स्थिति सही नहीं होती तब भी आपका मन किसी भी तरह की एक्टिविटी में नहीं लगता।

पढ़ाई में मन लगाने के लिए येकरें

बहुत से लोगों का पढ़ाई में मन नहीं लगता तो क्या कर सकते है जिससे आपका मन पढ़ाई में आसानी से लगने लगे? हम आपके लिए ले कर आये है कुछ आसान से टिप्स जिनके ज़रिये आप जानेंगे कि पढ़ाई में मन नहीं लगता तो क्या करना चाहिए?

टाइम टेबल बनाये

सबसे पहले पढाई का सही से टाइम टेबल बनाये और उसका सही से पालन करे। हर सब्जेक्ट के लिए एक टाइम फिक्स करे। ऐसा करने से पढाई करने के लिए आपकी एक सही मानसिकता बन जायेगी और टाइम टेबल के अनुसार अगर आप पढाई करोगे तो धीरे धीरे आपका पढाई में मन लगने लगेगा।

भीड़-भाड़ या शोर-शराबे वाले माहौल में काम आएगी ये ट्रिक

जब भी आप भीड़-भाड़ वाले या शोर-शराबे वाले माहौल में हो और पढाई करना चाहते हो तो ऐसे माहौल में पढाई में मन लगाना बहुत ही कठिन होता हैं। ऐसी परिस्थिति में आप अपने बुक के ऑडियोबुक संस्करण सुनें और वाक्यों को फॉलो करें। ऐसे में आप कोई वीडियो को भी देख सकते हैं इसके लिए आप इयरफोन्स का प्रयोग करे यह आपको बैकग्राउंड के शोर को कम करने में मदद करता है।

मैडिटेशन से लगेगा पढाई में मन

मैडिटेशन मन को शांत रखने का काम करता हैं। इससे आपकी एकाग्रता में भी बढ़ोतरी होती हैं। पढाई में मन लगाने के लिए एकाग्रता की आवश्यकता होती है। इसलिए आप प्रतिदिन 10 से 15 मिनट तक मैडिटेशन अवश्य करे जिससे धीरे धीरे आपका मन पढाई में लगने लगेगा।

नियमित ब्रेक भी है जरुरी

पढाई करते समय छोटे-छोटे ब्रेक लेते रहना चाहिए, जो आपकी एकाग्रता बढ़ने में सहायक होते हैं। पर इस ब्रेक में आप ईमेल चेक न करे, कॉल्स या मैसेज से दूर रहे ये आपको भटका सकते हैं।

पढाई का उद्देश्य

जब भी आप पढाई करे तो ये जरूर ध्यान में रखे कि आपका पढाई करने का उद्देश्य क्या है? किस रीज़न से आप पढाई कर रहे हैं? आपके फ्यूचर प्लान्स क्या हैं? जब आपका उद्देश्य आपको पता होगा तो आप आसानी से पढाई में मन लगा सकते हैं।

निष्कर्ष:

आज के हमारे इस लेख में आपने जाना कि पढ़ाई में मन नहीं लगने के क्या क्या कारण हो सकते हैं एवं पढ़ाई में मन नहीं लगता तो क्या करना चाहिए? उम्मीद है यह आपके लिए फायदेमंद होगा एवं आपको सफलता अवश्य प्राप्त होगी। आल द बेस्ट!

यह भी पढ़ें :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read